Saturday, August 7, 2010

bilaspur real estate market

bilaspur real estate market 
जैसे जैसे नए कीर्तिमान रचता जा वैसे ही उसके दुष्परिणाम  सामने आते जा रहे है जिनसे निपटने के लिए प्रशसन को भी दिकते आने वाली है , मसलन जैसे की ट्राफिक की समस्या पोलिस थानों पर  बढता हुआ दबाव और भी बहुत से  दुष्परिणाम  है पर मैं अभी इन दो प्रमुख समस्या को लेकर यहाँ के real estate market पर यह समस्याए क्या प्रभाव डाल सकती है उस पर प्रकाश डालने का प्रयास कर रहा हु
            ट्राफिक की समस्या पूरे विश्व के  हर बड़ते हुए नगर, महानगर,  कसबे, की है .पर इस समस्या से निपटने के लिए पूरे विश्व के  हर बड़ते हुए नगर, महानगरो में कुछ कड़े कानून और नियम बनाये गए है . कानून और नियम हमारे यहाँ पर भी है. पर इन  कानून और नियम का पालन  न करने की कुछ लोगो ने कसम खाई हुई है जिस की परिणाम स्वरूप दुरधटनाओ को यह लोग निमंत्रण देते है जिस करण  दुरधटनाओ का ग्राफ बढता ही जा रहा है 
 ट्राफिक की समस्या के करण यहाँ के  real estate market पर भी पड़ा है जैसे की लोग अब सदर बाजार जाना ज्यादा पसंद नहीं करते है क्योकि वह पाकिंग की सबसे बड़ी समस्या है ट्राफिक  रेंग -रेंग कर चलता है जिसके परिणाम स्वरूप यहाँ का व्यापर बस स्टैंड और तेली परा जैसे नए मार्केट से पिछड़ गया है, मेरा मानना है की बिलासपुर के ज्यादा तर लोग की सोच आज यह होती जा रही है की जहा उनकी गाड़ी पार्क होती है वो उस से ज्यादा दुर जा कर मार्केटिंग  करना पसंद नहीं करते एक उदारण के लिए बस स्टैंड और तेलीपारा की सफलता सामने है .टू व्हीलर हो या फोर व्हीलर की संख्या दिन प्रति दिन बड़ते ही जा रही  है और शहर की  सड़के थोड़ी बहुत बड़ी है उस के ऊपर यहाँ पर पार्किंग की कोई ठीक व्यवस्था भी नहीं है और लोग सही पार्किंग के लिए जागरूक भी नहीं है , और यहाँ का प्रशासन भी  पार्किंग जैसी समस्या के लिए जागरूकता जैसा कोई कदम  भी नहीं उठता . बस वाहन चेकिंग और पार्किंग के लिए छोटे मोटे चालान और मिडिया जब इन्हें सोते से जगाती है तब पेट्रोलिंग कर के थोड़ी बहुत व्यवस्था सम्भाल लेते  है 
वाहन चेकिंग और पार्किंग के लिए छोटे मोटे चालान से कुछ नहीं होगा सबसे महत्वपूर्ण है लोगो में जागरूकता लाना , जिसकी और प्रयास हुए है जैसे सडक सुरक्षा सप्ताह जो साल में एक बार काफी नहीं है , छत्तीसगढ़ का पहला ट्राफिक पार्क बिलासपुर में ही बना है उस का लाभ  आने वाले समय में लोगो को मिलेगा पर बिलासपुर में ऐसे प्रयासों से ट्राफिक की समस्या हल नही होने वाली अभी से आने वाले समय के लिए पार्किंग की जगह छोडनी होगी या फिर बहुमाज़िले पार्किंग स्पेस का निर्माण करना चाहिए , सड़के ज्यादा बड़ी हो इस लिए टाउन एंड कंट्री प्लान में कुछ नियमो का सकती से पालन करना होगा ,नए मास्टर प्लान के अनुसार  पार्किंग स्पेस पर विशेष ध्यान देना होगा नहीं तो आने वाला समय में जो हाल अभी गोलबाजार जुना बिलासपुर सदर बाजार का है वो करीब पूरे शहर के ज्यादातर प्रमुख मार्गो का होगा ,आने वाले समय में  बिलासपुर के real estate market पर प्रभाव यह होगा की वर्तमान बिलासपुर शहर  पुराना बिलासपुर शहर  हो जायेगा और नया शहर बोदरी, तिफरा ,सकरी कोनी मोपका हो तब जो आज कीमत यहाँ शहर में है क्या आने वाले सालो में आज से चार गुना अधिक कीमतों में लोग पुराने बिलासपुर में खरीदना पसंद करेंगे . आज सराफा मार्केट  यदि गोलबाजार से कही और चल दे तो क्या कोई भी वह पर 4000 रूपये वर्ग फुट में कोई दुकान या ज़मीन लेना पसंद करेगा .....अब यह सवाल सामने है ......
BIlaspur real estate market पर ट्राफिक की समस्या हावी होने वाली है वर्तमान में तो यही लग रहा है