Wednesday, December 1, 2010

commercial space bilaspur

bilaspur कामर्शियल स्पेस की मांग दिन प्रति दिन बड़ते जा रही है आने वाले कुछ महीनो के भीतर बिलासपुर में कामर्शियल स्पेस में की मांग बड़ने वाली है क्योकि मुझे लग रहा है पिछले सात आठ महीनो में जो  व्यापर विहार में जो कार्पोरेट  सेक्टर की एंट्री हुई है उस से आने वाले कुछ दिनों में फिर से व्यापर विहार की कॉमर्शियल प्रॉपर्टी में फिर से पूछ परख बड़ने की सम्भावना दिखने लगी है .उस का एक कारण यह भी है की बस स्टैंड  और हाई कोर्ट का  नया भवन बोदरी में बन जाने और होउसिंग बोर्ड की तथा यहाँ पर एक दो आवासीय  टाउनशिप के बनने और कुछ छोटे और बड़े पैमाने पर वैध और अवैध भूखंडो की बिक्री बड़ने तथा उसलापुर में रेल्वे स्टेशन में यात्री सुविधाओ में विकास होने के  साथ में उसलापुर और सकरी में तीन से चार बड़ी आवासीय  टाउनशिप के बनने से व्यापर विहार अब शहर का केंद्र बन गया है जो कभी बस स्टैंड हुआ करता था .व्यापर विहार से उसलापुर सकरी और बोदरी परसदा  SECL राजकिशोर नगर एक दम पास लगते है. और रास्ता भी सिधा और आसान है, कोई नया व्यक्ति भी आसानी से इन जगहों पर पहुच सकता है.यह कुछ ऐसे समीकरण है जिनसे  मुझे लग रहा है की ये व्यापर विहार  में कामर्शियल स्पेस की मांग को बड़ने वाले है  हालाकि अभी व्यापर  विहार में कामर्शियल स्पेस की मांग कम है,पर मुझे लग रहा है की आने वाले कुछ समय में सभी बड़ी कार्पोरेट  कंपनियों के ऑफिस  या हेड ऑफिस व्यापर विहार में रहेंगे क्योकि  इन कंपनियों के ब्रांच ऑफिस आने वाले समय में  व्यापर के हिसाब से उसलापुर और बोदरी परसदा तोरवा नाका  SECL राजकिशोर नगर (मोपका) इन जगहों  पर खुलेंगी या कुछ इन जगहों पर खुल गए है अब बाकि कंपनिया इसी ट्रेंड को फलो करने वाली है. तो  जाहिर सी बात है की  आने वाले कुछ सालो में  व्यापर विहार बिलासपुर का कामर्शियल और अफिशियल केंद्र बन जायेगा 



सबसे बड़ी और महत्वपूर्ण बात यह है की यहाँ पर प्रॉपर्टी के बुलबुले के फूटने का असर कम हो गया है अब यहाँ का पर की जो प्रॉपर्टी है वो डेवलपमेंट का रूप लेने लगी है श्रीकान्त वर्मा मार्ग पर माल के चलू होने का समय नजदीक आने  की वजह से यहाँ की प्रॉपर्टी पर बहुत जम के उछाल आने की सम्भावना तेज हो गई है अभी डोमिनोस के चालू होने  से ही आसपास की प्रॉपर्टी पर सुगबुगाहट तेज हो गई है और सब से महत्वपूर्ण बात यह है की यहाँ पर अभी कुछ छोटे और बड़े प्रोजेक्ट के लिये लोगो की जमीने बहुत है और मेरा मानना है की जहा पर जमीने ज्यादा होती है वह पर प्रोपर्टी की कीमत और डेवलपमेंट ज्यादा होता है
                                                                                                                   
व्यापर विहार को अब मैं इतना महत्व क्यों दे रहा हु क्योकि कार्पोरेट कंपनिया किसी भी कामर्शियल स्पेस पर 6 से ९ साल  से ज्यादा दिन नहीं टिकती है और अब बिलासपुर में कुछ छोटे और बड़े  कार्पोरेट समूह काफी पुराने हो गये है वे अब अपनी ब्रांच भी खोल रहे है और कुछ  खोलने वाले भी है  और बिलासपुर का सेंटर  व्यापर  का केंद्र व्यापर विहार ही है . अब मुझे लग रहा है की वो समय आने वाला है यहाँ की होल्डिं की हुई प्रोपर्टी को नए और बड़ी हुई कीमत मिलने की उमीद लग रही है जो यहाँ पर आये बूम के जाने के बाद से कुछ ठंडी पड़ी थी,

1 comment:

Real Estate Chhattisgarh said...

bilaspur ke "commercial space" par mera jo anubhav tha wo maine is blog ke madhyam se likha hai. मुझे अब तक फ़ोन पर बहुत सी शुभकामनाये मिली है , जिससे मेरा उत्साह और भी बढ गया है मैं कोशिश करूँगा की मैं आने वाले समय में आपने शुभचिंतको की उमीदो पर खरा उतरु ..