Friday, July 6, 2012

भवन निर्माण से जुड़े कुछ अनुभव और जानकारिया जून (1 )


प्रॉपर्टी सेक्टर और भवन निर्माण सेक्टर अलग अलग होते हुए भी आपस में जुड़े हुए है. मैं पिछले 10 -11 सालो से मैं इन दोनों सेक्टरो से जुड़ा हुआ हूँ और मैं जो कुछ सिखा है समझा है उन्हें साझा करने का एक छोटा सा प्रयास है .. फेस बुक पर समय समय पर जो अनुभव मैंने पोस्ट किये है वे फेस बुक पर खो न जाये इसलिए इसे भी ब्लॉग में शामिल किया है

मकान बनवाने के दौरान बजट अधिक हो ही जाता है यह निर्माण कार्यो में साधारण सी बात है क्योकि अतिरिक्त कार्य बड़ते ही चले जाते है .. भवन निर्माण के लिए मटेरियल सहित ठेके पर काम करने वाले सही मिले तो ठीक है वरना ये ऐसे ऐसे चार्जस लेते है जिससे मकान बनवाने वाले की जेब अच्छी खासी ढीली हो जाती है वैसे ऐसी परीस्थितियों से बचने के लिए ग्रामीण इलाको में लोग कोई भी काम ""कुते "" या पुरे ठेके में दे देते है कोई लम्बाई चौड़ाई नापने का हिसाब नहीं अपनी रिक्वायरमेंट बता कर कोई भी काम ठेके पर दे देते है ..
 June 3
एक मकान बनवाने के दौरान ठेकेदार लेंटर नाप , सीडिया का नाप , सेप्टिक टेंक का नाप ,बाउंड्री वाल का नाप इसके अलावा भी ठेकेदार के पास बहुत से नाप होते है जिसे नाप कर वो आप का बजट बिगाड़ सकता है. ठेकेदार के नाप के आगे साइड इजीनियर और आर्कीटेक्ट भी नतमस्तक हो जाते है
· June 3
भवन निर्माण के दौरान तकनिकी गलतिया एक सामान्य धटना है जो धटित होते रहती है इसमें गलती बिल्डिंग की डिज़ाइन की , इंजिनियर की लेबर की ,ठेकेदार की ,मटेरियल की क्वालिटी की या मौसम किसी की भी हो सकती है .सबसे महत्वपूर्ण यह है की उसे कैसे जल्द से जल्द निपटा जाय और समय रहते सुधारा जाये ..यह डिस्कवरी चेनल के मेगा स्ट्रक्चर में अकसर दिखाई जाती थी
 June 3
यदि आप अपने प्लाट पर अपना स्वतंत्र मकान बनवा रहे है तो ध्यान रखे की पानी की व्यवस्था पहले से कर ले और कोशिश करे की जब भी आप अपने बनते हुए मकान को देखने जाये तो कुछ देर के लिए ही सही पाइप लेकर पानी की तराई जरुर करे ऐसा करने से आप को अपने मकान की निर्माण की बारिकिया दिखाई देगी और उसके गुण दोष आसानी से नजर आयेंगे ...यह मेरा निजी अनुभव है रोजाना तो नहीं पर मैं समय मिलने पर अक्सर अपनी साइड में कुछ देर के लिए ही पानी की तराई का कार्य करता हूँ
· June 4
बरसात का मौसम नजदीक है और ऐसे में घरो में पानी के सीपेज की समस्या का निदान नहीं किया गया तो बिल्डिंग में किया गया पेंट ख़राब होने की सम्भावनाये है वैसे ऐसा अक्सर सटे हुए भवनों में होता है
 June 6
मकान बनवाते समय सबसे महत्वपूर्ण कार्य यदि पुरे स्ट्रकचर में पानी पट्टी को नजर अंदाज नहीं किया जाना चाहिए ये पानी पट्टी ही दीवाल , छज्जे लेंटर से पानी के रिसाव को अन्दर आने से रोकती है
 June 6
पुरे पैसे देकर भी यदि कोई चीज सही नहीं मिलती हो बहुत अखरता है अब मैं बात करता हूँ भवन निर्माण की इस में एक तो जानकारी क आभाव की वजह से पुरे पैसे लेने के बाद भी निर्माण सामग्री सही क्वालिटी की नहीं मिल पाती है .
June 10
100 में से 70% लोग भवन निर्माण के बारे में कुछ ज्यादा जानते ही नहीं है और जो जानकारिया उन्हें मिलती है जो मकान बनवा चुके होते है उन के अनुभव के आधार पर मिल जाती है जो की एक घर बनवाने के लिए काफी नहीं होती है और इसी बात का फायदा कांट्रेक्टर और लेबर ठेकेदार उठाते है क्योकि वो जानते है की मकान बनवाने वाला ज्यादा कुछ नहीं जनता है इस सेक्टर की खासियत यह है की मकान बनवाने वाले का जो साइड इंजिनियर है भी अक्सर ठेकेदार का पक्ष लेते है
 June 11
ईट---रेत---गिट्टी ---सीमेंट ---छड़ ....और लेबर ठेकेदार के अलावा एक मकान बनाने में कम से कम 100 से भी अधिक चीजे लगती है और इन को कम से कम 5 से 6 अलग अलग प्रकार के काम करने वाले कुशल कामगारों की जरूतर पड़ती है ...और सबसे ज्यादा तकलीफ इन्हें संग्रह कर के साइड तक पहुचने की होती है ..ऊपर से निर्माण स्थल से चोरी भी एक बड़ा सर दर्द होती है
June 12
अपने मकान में गार्डन हर कोई चाहता है ...अपार्टमेन्ट में तो यह संभव नहीं है ....स्वतन्त्र आवासीय परिसर में यह संभव है और सिर्फ एक तरीका है गार्डन के लिए ज्यादा से ज्यादा जगह छोड़ना ...पर महगी जमीनों में कौन ज्यादा जगह छोड़ता है ..इस का तरीका है की छत या टैरेस पर यह संभव है . यदि आप नया मकान बनवा रहे है तो आप बिल्डिंग के स्ट्रक्चर में इसे डिज़ाइन करे ऐसा करने से बिल्डिंग का लुक्क और भी बढ जायेगा
June 12
Electricians अकसर गलतिया करते है और खामियाजा मकान बनवाने वाले को भुगतना पड़ता है ... आप यदि मकान बनवा रहे है तो लेंटर में पाइप और प्लास्टर के पहले स्विच बोर्ड निर्धारित स्थान में ही लगे इस कार्य को गंभीरता से ले जयादा तर बिल्डर फ्लोर को छोड़ कर स्विच बोर्ड अव्यवस्थित होते है ..और डिस्क का केबल पावर लें से अलग हो ..डिस्क का केबल आप टाइल्स के निचे से भी दे सकते है
June 17
मकान बनवाने के दौरान ध्यान रखे की फेन बॉक्स आप के लेंटर को कमजोर कर सकता है वैसे फेन बॉक्स की ऊंचाई 3' इंच की होती है और लेंटर की मोटाई लगभग 5' इंच तक की जाती है अब ये दो इंच में ही सारी गड़बड़िया होती है .फेन बॉक्स जिस स्थान पर लगा है उस का थोडा उठ जाना या शटरिंग का थोडा उठ जाना या लेवल में थोडा ऊँचा होना ,फेन बॉक्स के ऊपर कंक्रीट का ठीक तरीके से ना होना आदि ये कुछ कारण है जो सावधानी बरतने पर भी धटित हो जाते है
June 19
दुकानों में रैक बनवाना काफी खर्चीला होते जा रहा है.फ़िलहाल स्टेनलेस स्टील और ग्लास , प्लाई और लकड़ी , लोहा-टीन और एंगल, मार्बल, राजिम स्टोन ही प्रचलित है. इसमें सबसे आकर्षक लॉन्ग लाइफ मार्बल ही है जो बिलासपुर छत्तीसगढ़ में प्लाई और लकड़ी से सस्ता पड़ रहा है .पर यह किराए की दुकान के लिए उपयक्त नहीं किराये की दुकान के लिए टेनलेस स्टील और ग्लास लोगो की पहली पसंद बना हुआ है
June 21
भवन निर्माण के लिए बारिश का मौसम सबसे बढ़िया रहता है ..बस आप के पास मटेरियल का स्टाक होना चाहिए ...बस थोड़ी लेबर कास्ट बढ़ जाती है वो भी तापमान सामान्य रहने से मजदूरो के कार्य करने की छमता बढ़ ने की वजह से वसूल हो जाती
June 22
मकान के लेंटर की ऊंचाई सामान्यत 10 फुट रखी जाती है( फ्लोर से लेंटर के बिच की दुरी ) यदि आप नया मकान बनवा रहे है तो ध्यान रखे की आज कल मकानों में फाल सीलिंग का भी ट्रेंड ज्यादा चलन में है ऐसे में 10 फुट की उंचाई कुछ कम हो जाती है तो कोशिश करे की मकान के लेंटर की ऊंचाई 11.3" फुट होनी चाहिए .इसमें फाल सीलिंग की डिजाइन भी अच्छी लगती है और ऊंचाई भी कम नहीं होती है ..हालाकि लगत में थोड़ी बढोतरी हो जाती है
June 23
प्राया  तर हर भवन में सीढ़ी के पास का हिस्सा या सीढ़ी के निचे का भाग बेकार हो जाता है मकान ,दुकान बनवाते समय इस स्थान की प्लानिंग जरुर करे ,अलमारी ,स्टोर , शो केश ,बाथरूम ,स्टडी टेबल इन स्थानों पर आसानी से बनाये जा सकते है
June 29

3 comments:

Anonymous said...

Bahut Ache Vichar He AApke

Rajesh

Deepesh Awasthi said...

Mai bilaspur me apna makan bnwa rha hu a apse nivedan hai ki asp apna email I'd post kre taki vistar me a apse sahayta li Jan sake

Deepesh
Shubham vihar bilaspur

vivek pandey said...

Vpjbgpihu@gmail.com mera id h sir plz tell me bina plastr diwaro ko kaise kisi aur samagri ka prayog kre kam dam ke sath